सीबीएसई ने 2021-22 के लिए नई स्कीम की घोषणा की, शैक्षणिक वर्ष को हिस्सों में बांटा


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सीबीएसई ने सोमवार को एक नोटिफिकेशन जारी कर 2021-22 के लिए एक नई स्कीम की घोषणा की। इसमें शैक्षणिक वर्ष को प्रत्येक सत्र में लगभग 50% पाठ्यक्रम के साथ दो हिस्सों में विभाजित किया जाएगा। पहले टर्म की परीक्षा नवंबर में होगी। जबकि दूसरे टर्म की परीक्षा मार्च-अप्रैल में करवाई जाएगी।

सीबीएसई की स्पेशल स्कीम के मुख्य बिंदु:
1. शैक्षणिक सत्र 2021-22 के सिलेबस को सब्जेक्ट एक्सपर्ट दो टर्म में डिवाइड करेंगे। इसे कॉन्सेप्ट की इंटरकनेक्टिविटी और टॉपिक्स को देखते हुए एक सिस्टमेटिक अप्रोच का पालन करते हुए डिवाइड किया जाएगा। बोर्ड प्रत्येक सत्र के अंत में सब्जेक्ट के इसी डिविजन के आधार पर परीक्षा आयोजित करेगा।

2. बोर्ड परीक्षा 2022 के सिलेबस को जुलाई 2021 में अधिसूचित किए जाने वाले पिछले शैक्षणिक सत्र के समान ही युक्तिसंगत बनाया जाएगा।

3. मार्क्स के फेयर डिस्ट्रीब्यूशन के लिए इंटरनल असेसमेंट या प्रैक्टिकल या प्रोजेक्ट वर्क को अधिक विश्वसनीय और वैध बनाने का प्रयास किया जाएगा। सीबीएसई की ओर से घोषित की जाने वाली गाइडलाइन और मॉडरेशन पॉलिसी के अनुसार ये प्रयास होंगे।

4. ये नवाचार भी होंगे

  • जब तक स्कूलों में व्यक्तिगत रूप से पढ़ाने की अनुमति नहीं मिलती, तब तक स्कूल डिस्टेंस मोड में पढ़ाना जारी रखेंगे।
  • कक्षा नौवीं – दसवीं के लिए आंतरिक मूल्यांकन (पूरे वर्ष टर्म I और टर्म II के बावजूद) में 3 पीरियोडिक टेस्ट, स्टूडेंट एनरिचमेंट, पोर्टफोलियो और प्रायोगिक कार्य / बोलने – सुनने की गतिविधियां / परियोजना कार्य शामिल होंगे।
  • कक्षा 11वीं – 12वीं के लिए आंतरिक मूल्यांकन (वर्ष भर में टर्म I और टर्म II की अवधि के अलावा) में टॉपिक एंड या यूनिट टेस्ट / खोजपूर्ण गतिविधियां / प्रायोगिक कार्य / प्रोजेक्ट परियोजनाएं शामिल की जाएंगी।
  • स्कूल द्वारा साल भर में किए गए सभी असेसमेंट के लिए छात्र का एक प्रोफाइल तैयार करेंगे और इसके एविडेंस यानी सबूतों को डिजिटल प्रारूप में सहेज कर रखा जाएगा। 
  • सीबीएसई स्कूलों को सीबीएसई आईटी प्लेटफॉर्म पर आंतरिक मूल्यांकन के अंक अपलोड करने की सुविधा भी प्रदान की जाएगी।

Image 

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *